समाचार

योगी सरकार अपराध रोकने में पूरी तरह नाकाम : प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के हापुड़ में एक किसान के बेटी कथित पुलिस उत्पीड़न से हुई मौत के मामले को लेकर गुरुवार को राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि यह सरकार अपराध रोकने में पूरी तरह नाकाम रही है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘‘हापुड़ में एक किसान के बेटे को पुलिस ने टॉर्चर (उत्पीड़न) किया और उसकी जान चली गयी। उसके बेटे को पुलिस ने चिप्स का लालच देकर चुप रहने को कहा। यह शर्मनाक है। ’’ प्रियंका ने आरोप लगाया, ‘‘भाजपा सरकार अपराध रोक पाने में तो पूरी तरह नाकाम है। लेकिन पुलिस ज्यादती की घटनाएँ हर रोज आ रही हैं..

images

https://punjabkesari.com/uttar-pradesh/priyanka-gandhi-said-yogi-government-completely-fails-to-stop-crime/

छात्रा को न्याय दिलाने दोबारा शाहजहांपुर आएंगे : लल्लू

शाहजहांपुर : चिन्मयानंद प्रकरण में कांग्रेस शांत बैठने के मूड में नहीं दिख रही। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने इस बाबत कहा कि छात्रा को न्याय दिलाने के लिए पार्टी संघर्ष जारी रखेगी। इसके लिए जरूरत पड़ी तो दोबारा शाहजहांपुर आएंगे।

रामपुर जाते समय शहर के बरेली मोड़ पर स्वागत कार्यक्रम के दौरान मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि सरकार के दबाव में छात्रा की आवाज को दबाने का काम किया जा रहा है। छात्रा को न्याय दिलाकर वह सरकार को आइना दिखाएंगे।
इससे पहले प्रदेश अध्यक्ष का कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। प्रदेश अध्यक्ष ने एक ढाबे पर कुछ देर पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ मीटिग की। कहा कि कार्यकर्ताओं की मेहनत की बदौलत 2022 में कांग्रेस सत्ता में वापसी करेगी। उन्होंने कहा कि यदि किसी कार्यकर्ता का कहीं उत्पीड़न होता है तो पूरी पार्टी उसके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी होगी। उन्होंने युवा, किसान, महिला, व्यापारी सहित सभी वर्गों को पार्टी से जोड़ने के लिए दिशा-निर्देश दिए। कार्यवाहक जिलाध्यक्ष कौशल मिश्र ने धान खरीद व किसानों से जुड़ी अन्य समस्याओं का मुद्दा प्रदेश अध्यक्ष के सामने उठाया। प्रदेश अध्यक्ष ने भरोसा दिलाया कि किसान देश की रीढ़ है। इस लिए उनका उत्पीड़न किसी तरह से नहीं होने देंगे। इस दौरान कार्यवाहक महानगर अध्यक्ष तसलीम अली खां, अशफाक उल्ला खां, रामनाथ बघेला, केबी मिश्रा, सावित्री शर्मा, महेश बाबू मिश्र, रजनीश गुप्ता, फुरकान अहमद कुरैशी, अश्वनी द्विवेदी, अतित बागी, प्रशांत कठेरिया, अदीब अहमद, अनूप वर्मा, शुभम सक्सेना, गुलजार अहमद आदि मौजूद रहे।

ajay-kumar-lallu

https://www.jagran.com/uttar-pradesh/shahjahanpur-congress-state-president-ajay-kumar-lallu-19677355.html

संपर्क और संघर्ष से मजबूत होगी कांग्रेस

सोनभद्र के उम्भा गांव में 17 जुलाई को जमीन विवाद में हुए नरसंहार के बाद सबसे पहले मौके पर पहुंचने वाले नेता कुशीनगर के तुमकुहीराज से विधायक अजय कुमार लल्लू ही थे. इन्हीं की पहल पर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी सोनभद्र में नरसंहार पीडि़तों से मिलने पहुंचीं और यूपी में भाजपा की सरकार को बैकफुट पर ला दिया. इसके बाद 40 वर्षीय अजय कुमार प्रदेश में लगातार प्रियंका गांधी के साथ हर कार्यक्रम में नजर आए. संघर्षशील युवा नेता की पहचान रखने वाले कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार अब यूपी कांग्रेस कमेटी के नए अध्यक्ष हैं.

उन्होंने कुशीनगर में किसान पी.जी. कालेज सेवरही से छात्र राजनीति शुरू की और वर्ष 2000 में यहां छात्रसंघ अध्यक्ष बने. पिछड़ी जाति मधेसिया से ताल्लुक रखने वाले अजय कुमार वर्ष 2008 में कांग्रेस में शामिल हुए. वे वर्ष 2012 और 2017 में तुमकुहीराज से विधायक चुने गए. गुजरात और मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनावों में कांग्रेसी उम्मीदवारों के चयन में उन्होंने अहम भूमिका निभाई. अब उन पर यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की नैया पार लगाने की कड़ी चुनौती है. कांग्रेस की रणनीति के बारे उन्होंने असिस्टेंट एडिटर आशीष मिश्र से चर्चा की.

यूपी में कांग्रेस को कैसे खड़ा करेंगे?

राजनीति में मेरे तीन मूल सिद्धांत रहे हैं-संपर्क, संवाद और संघर्ष. इसी के आधार पर मैंने संगठन और राजनीति में कार्य किया है. जनसरोकार के मुद्दों को अधिक मजबूती से उठाने का प्रयास किया जाएगा.
कांग्रेस जनता का विश्वास खोती जा रही है?
ऐसा नहीं है. सोनभद्र का नरसंहार, उन्नाव में पूर्व भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर या शाहजहांपुर में बेटी के न्याय की घटना हो, इन सभी प्रकरण पर कांग्रेस ने मजबूती के साथ जनता की आवाज को उठाया है.

यूपी में कांग्रेस दूसरी पार्टियों की पिछलग्गू बनती जा रही है?

प्रदेश में जो 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने जा रहे हैं उन पर कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ेगी. कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने स्पष्ट कर दिया है कि पार्टी अकेले दम पर चुनाव लड़ेगी. वह किसी से गठबंधन नहीं करेगी, अपने विचार और कार्यकर्ताओं के दम पर विपक्षियों को पटखनी देगी.

कांग्रेस के कार्यक्रमों, आंदोलनों में निरंतरता नहीं देखी गई है?

***

जनपदवार पार्टी संगठन के लोगों से चर्चा के बाद जो भी जनसरोकार के मुद्दे हैं उनको निरंतर उठाकर संघर्ष का रास्ता अख्तियार करेंगे. प्रियंका गांधी जी यूपी में सबसे ज्यादा समय देकर संघर्ष और संपर्क की रणनीति बना रही हैं. इससे कांग्रेस सभी चुनौतियों का सामना कर सकेगी.

पार्टी का पूरा फोकस पूर्वी उत्तर प्रदेश की ओर है?

शाहजहांपुर तो पश्चिमी यूपी में आता है जहां की बेटी को न्याय दिलाने की लड़ाई कांग्रेस पार्टी लड़ रही है. प्रियंका गांधी पूरे प्रदेश की प्रभारी हैं. वो हर जनपद से फीडबैक ले रही हैं. लोकसभा चुनाव के बाद अब तक वे 9,000 से ज्यादा लोगों से व्यक्तिगत मिल चुकी हैं.

क्या यूपी में वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में प्रियंका गांधी मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार होंगी?

यह तो राष्ट्रीय नेतृत्व को तय करना है. लेकिन जगह-जगह बैरिकेडिंग लगाने, नेताओं को घरों से उठाने के बावजूद शाहजहांपुर में 3,000 से अधिक कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे थे. इसके बाद लखनऊ में प्रियंका गांधी के नेतृत्व में 40,000 से अधिक लोगों ने शाहजहांपुर की बेटी को न्याय दिलाने के लिए पदयात्रा की थी. इससे पता चलता है कि कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं में जोश और विश्वास बढ़ा है. इससे आगे की राह आसान होगी.

कुछ कांग्रेसी नेता और विधायक भाजपा के संपर्क में हैं?

पार्टी के भीतर जो भी अनुशासनहीनता करेगा चाहे, वह कितना ही बड़ा नेता या प्रभावशाली क्यों न हो, उसपर कार्रवाई की जाएगी. पार्टी में अनुशासन प्राथमिकता है. पार्टी और संगठन को मजबूत बनाने के लिए जरूरी और कड़े कदम भी उठाए जाएंगे.

भाजपा की जातीय गोलबंदी की राजनीति की कांग्रेस के पास क्या कोई काट है?

कांग्रेस में संगठन का जो नया प्रारूप आया है उसमें सभी जातियों और सभी लोगों का समान रूप से समावेश है. कई पिछड़़ी जातियां, ब्राह्मण, मुसलमान और दलित पूर्व में काग्रेंस पार्टी के मतदाता रहे हैं. इनसे निरंतर संवाद, संपर्क और जनता के मुद्दों पर लगातार संघर्ष करके कांग्रेस पार्टी आगे बढ़ेगी.

AKL

https://aajtak.intoday.in/story/uttar-pradesh-congress-umbha-village-ajay-kumar-lallu-priyanka-gandhi-1-1128624.html

प्रियंका गांधी ने फिर साधा योगी सरकार पर निशाना, कहा- किसानों से मुंह मोड़ के बैठी है यूपी सरकार

उत्तर प्रदेश में कर्ज में दबे एक किसान द्वारा कथित तौर पर खुदकुशी करने को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को राज्य सरकार पर निशाना साधा. प्रियंका गांधी ने किसान की मौत पर दुख जताते हुए उत्तर प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया कि योगी आदित्यनाथ सरकार किसानों से मुंह मोड़े बैठी हुई है. उन्होंने एक खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘भाजपा सरकार ने एक तरफ चंद अमीर दोस्तों के 76000 करोड़ एक झटके में माफ कर दिए, दूसरी तरफ उप्र में हमारे किसान 35,000 रुपए के कर्ज के दबाव में आत्महत्या करने को मजबूर हैं.’
प्रियंका गांधी ने सरकार पर आरोप लगाया, ‘ये अन्याय है. किसानों पर कर्ज की मार पड़ी है और उप्र सरकार उनसे मुंह मोड़ के बैठी है.’ उन्होंने जो खबर शेयर की उसके मुताबिक कन्नौज में रतिराम यादव नामक एक किसान ने कथित तौर पर खुदकुशी कर ली क्योंकि वह भूमि विकास बैंक से लिया गया 35 हजार रुपये का कर्ज नहीं चुका सका..

images

https://khabar.ndtv.com/news/india/priyanka-gandhi-vadra-criticise-on-uttar-pradesh-government-on-farmer-suicide-2115961

उत्तर प्रदेश : संगठन में जान फूंकने के लिए अब स्थानीय चुनाव भी लड़ेगी कांग्रेस

नये नेतृत्‍व के साथ उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस बुनियादी स्तर पर संगठन को मजबूत करने के लिये स्‍थानीय स्‍तर के तमाम चुनावों में भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करेगी. पार्टी का मानना है कि जनता की आकांक्षाओं और उम्‍मीदों पर खरी उतरकर वह न सिर्फ बीजेपी की ‘एकमात्र विकल्‍प’ बनने बल्कि सरकार बनाने में भी कामयाब होगी. उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस के नवनियुक्‍त प्रान्‍तीय अध्‍यक्ष अजय कुमार ‘लल्‍लू’ ने बातचीत में अपने सामने खड़ी चुनौतियों, लक्ष्‍यों और सम्‍भावनाओं पर विस्‍तार से अपनी बात रखी. उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर प्रदेश में कांग्रेस को बीजेपी का एकमात्र विकल्‍प बनाना उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती है. इसके लिये हमें कार्यकर्ताओं के अंदर आत्‍मविश्‍वास, जोश और उत्‍साह भरकर उनके साथ जुड़कर काम करना होगा. उन्‍होंने बताया कि शनिवार को दिल्‍ली में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा समेत कई वरिष्‍ठ नेताओं के साथ बैठक में तय किया गया कि छह महीने में संगठन को ब्‍लॉक, तहसील और जिला स्‍तर पर बहुत मजबूत किया जाएगा. पार्टी अब ‘इलेक्‍ट्रो पॉलिटिक्‍स’ पर विशेष ध्‍यान देगी. चाहे वह क्षेत्र पंचायत हो, सहकारी संस्‍थाएं हों या जिला पंचायत हो, उन सारे चुनावों में पार्टी की भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी. इसे एक अभियान की तरह शुरू किया जाएगा.
अजय ने कहा कि बीजेपी का विकल्‍प बनने के लिये संघर्ष ही एकमात्र रास्‍ता है. कुशीनगर की तमकुहीराज सीट से कांग्रेस विधायक अजय ने कहा कि पार्टी ने 10 विधानसभा सीटों पर 21 अक्‍टूबर को होने वाले उपचुनाव के लिये तैयारियां तेजी से शुरू कर दी हैं. सभी सीटों पर संगठनात्‍मक नजरिये से सबकी जिम्‍मेदारी तय की गयी है. हमारा प्रयास है कि उत्‍तर प्रदेश सरकार की तमाम विफलताओं को जनता के बीच ले जाकर कांग्रेस उम्‍मीदवारों को जिताया जाए.
कांग्रेस में नयी जान फूंकने के मंत्र के बारे में पूछे जाने पर उन्‍होंने कहा कि राजनीति में मेरे तीन मूल मंत्र हैं- सम्‍पर्क, संवाद और संघर्ष. पार्टी इन तीनों के सहारे बहुत से रचनात्‍मक कार्य और सामाजिक सरोकारों के अनेक विषयों को लेकर आम जनता से व्‍यावहारिक बातचीत का सिलसिला शुरू करेगी. अजय ने कहा कि आज उत्‍तर प्रदेश में सरकार हर तबके की आवाज दबाकर तानाशाही कर रही है. हमें सड़क पर निकलकर अपने कार्यकर्ताओं के दम पर जनता की आवाज बनना होगा. नयी प्रदेश कांग्रेस समिति के गठन के बाद विरोधी स्‍वर उठने और पार्टी में गुटबाजी संबंधी सवाल पर प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा कि इस प्रकार की बातें बढ़ा-चढ़ाकर कही जा रही हैं. अगर कहीं कोई मतभिन्‍नता है तो सम्‍बन्धित नेता से बातचीत करके मामला सुलझाया जाएगा..

download

https://khabar.ndtv.com/news/india/congress-will-fight-local-election-to-enhance-strength-in-uttar-pradesh-2116053?fbclid=IwAR15nBwbzqDPsS8eO89LmJpjnDq5ZbP2mWtrXbtiqBKszXLPbr2ZSjpGdRg